Enhance your knowledge

Madeline Swegle becomes Americian Navy’s first The Black female fighter pilot

Madeline Swegle becomes Americian Navy’s first The Black female fighter pilot

The black women figher pilot in america


Lt. J.G. Madeline Swegle became the first female pilot of the U.S. Navy,
For the first time in the US Navy in 110 years of history, a black woman has become the first female strike avester of the US fighter aircraft, J.G. Madeline Swegle made history in America.
Naval aircraft flew
to the US in 1910 and became the first female fighter aircraft pilot in 1974,

Black people in the U.S. Navy represent only 2.17%, while the population of black people in the U.S. is more than 16%, which is much less than the white American people, affirmative action reservation system rules for black people in America,
The US Navy Chief has said that we cannot discriminate against any individual or discriminate against racist people because they are equal citizens active and reserved in democracy, they are against the orthodox system and want to end this system of racism. Apartheid is against discrimination so that the dignity of a democratic country falls.
All the intellectuals of the world are praising this decision, saying that they are working against gender discrimination and racism,


Lt. j.g. Madeline Swegle अमेरिका नौसेना की पहली महिला पायलट बनी है,
110 साल के इतिहास में अमेरिका नौसेना में पहली बार कोई एक अश्वेत महिला अमेरिका लड़ाकू विमान की महिला स्ट्राइक एविस्टर बनी है, J.G. Madeline Swegle ने यह अमेरिका में इतिहास बनाया है,
अमेरिका देश में 1910 में नौसेना विमान की उड़ान भरी गई थी तथा 1974 इसी में पहली महिला लड़ाकू विमान पायलट बनी थी,

अमेरिका के नौसेना में अश्वेत लोगों का प्रतिनिधित्व 2.17% ही है, जबकि अमेरिका में अश्वेत लोगों की जनसंख्या 16% से अधिक है, जोकि की सफेद अमेरिका लोगों से कम बहुत कम है, अमेरिका में काले अश्वेत लोगों के लिए affirmative action आरक्षण प्रणाली नियम है,
अमेरिका के नौसेना प्रमुख ने कहा है कि हम लोकतंत्र में समान नागरिक सक्रिय व आरक्षित होने के कारण हम किसी भी व्यक्ति पर भेदभाव या नस्ल वादियां रंगभेद नहीं कर सकते हैं, वह रूढ़िवादी प्रणाली के खिलाफ हैं और इस प्रणाली को खत्म करना चाहते हैं वह नस्लभेद रंगभेद आदि भेदभाव के खिलाफ हैं, जिससे किसी लोकतांत्रिक देश की गरिमा गिरे,
संसार के सभी बुद्धिजीवी लोग इस निर्णय की बहुत प्रशंसा कर रहे हैं कि वह लिंग भेद व नस्लभेद के विरुद्ध कार्य कर रहे हैं,


Leave a Reply

%d bloggers like this: