Enhance your knowledge

The poem of changing human

poet

a struggle human poem

रफ़्तार धीमी है,पर चल रहा हूं
बाहर उजाला इसलिए है
क्योंकि,अंदर से “में जल रहा हूं