Enhance your knowledge

A poem about a brave life

A poem about a brave life

human life brave momenta life


Luck turns around
Then slow life also goes fast
Whenever I grow
Progress kills a lot

The desire to do something good thrives in the heart
There is no smoke in it, the fire burns in the chest
Whenever i grow
Progress kills a lot

The floor is in front, however, the air moves opposite
Believe it or not, this world is very deceitful
Whenever I grow
Progress kills a lot

All the solar clouds, but I walk quietly
I have changed the time, I do not change the time
Whenever I grow
I eat a lot


किस्मत जब करवट बदलती है
तब धीमी जिंदगी भी,तेज चलती है
तरक्की जब भी करता हूं
तरक्की खूब खलती है

कुछ अच्छा करने की तमन्ना दिल में पलती है
धुंआ इसमें न होता है,आग सीने में जलती है
तरक्की जब भी करता हूं
तरक्की खूब खलती है

है मंजिल सामने लेकिन,,हवा विपरीत चलती है
भरोसा और न करना, ये दुनिया खूब छलती है
तरक्की जब भी करता हूं
तरक्की खूब खलती है

हैं सारे सौर के बादल,मगर चुपचाप चलता हूं
वक्त को बदला है मेने, वक्त पे नहीं बदलता हूं
तरक्की जब भी करता हूं
सभी को खूब खलता हूं.

 
/


Leave a Reply

%d bloggers like this: