Enhance your knowledge

The poem of changing human

The poem of changing human

a struggle human poem


रफ़्तार धीमी है,पर चल रहा हूं
बाहर उजाला इसलिए है
क्योंकि,अंदर से “में जल रहा हूं

कुछ लोगों को में,इस कदर खल रहा हूं
क्योंकि अपनी मेहनत की दम पे
में “वक्त से पहले ही,,बदल रहा हूं

जमीन बंजर है”फिर भी फल रहा हूं
शायद किस्मत को
अपनी मेहनत से छल रहा हूं

हर सांचे में, खुद को ढाल रहा हूं
हाल सबका तो किया ठीक
और खुद बेहाल रहा हूं

चल रहा हूं,,मगर एक दिन थम जाउंगा
अभी पानी हूं तो बह रहा हूं
किसी दिन बर्फ की तरह,,जम जाउंगा

poets Veeru ji


Speed is slow but i’m moving
Outside is bright
Because, from inside “I’m burning

Some people are feeling like this
Because on the strength of our hard work
I am “prematurely changing,

The land is barren “still flourishing
Maybe to luck
Cheating on my hard work

In every mold
All was well with everyone
And myself am suffering

I am going, but one day I will stop
Now I am flowing
Someday, like snow, will freeze

poet- veeru ji


Leave a Reply

%d bloggers like this: